राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत अब तक 1077 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत : राधा मोहन सिंह

पशु संदेश, भोपाल | 28 अक्टूबर 2017 

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा है कि “राष्ट्रीय गोकुल मिशन” योजना के अंतर्गत अब तक 27 राज्यों से आए प्रस्तावों के लिए 1077 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की गई है तथा इस योजना के अंतर्गत अब तक 499.08 करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी है | सिंह ने यह जानकारी आज सेमवापुर, मोतिहारी मे लगे पशु आरोग्य मेले में लोगों को सम्बोधित करते हुए दी

2016-17 में 4 लाख करोड़ रु. के दूध का उत्पादन

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि, भारत डेयरी राष्ट्रों के बीच एक नेतृत्व के रूप में उभर रहा है | देश मे 2016-17 के दौरान 163.7 मिलियन टन दूध का उत्पादन हुआ है, जिसकी कीमत 4 लाख करोड़ रु. से अधिक है | सिंह ने कहा कि भारत में 30 करोड़ बोवाईन हैं, जो विश्व की कुल बोवाईन आबादी का 18 प्रतिशत हैं | इसी तरह देश में वर्तमान में 19 करोड़ गोपशु हैं, जो विश्व के कुल गोपशु का 14% हैं |  इनमें से,15.1  करोड़ गोपशु देशी नस्ल के हैं जो कुल गोपशुओं का 80% है | उन्होंने कहा कि आज हमारे पास गोपशुओं की 40 नस्लों के साथ याक और मिथुन के अलावा भैंसों की 13  नस्लें हैं | केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि देश में देशी पशु विशेष रूप से अपने-अपने प्रजनन क्षेत्रों की जलवायु और पर्यावरण के लिए अधिक उपयुक्त हैं | जलवायु परिवर्तन से देशी नस्लें कम से कम प्रभावित होंती हैं | उन्होंने कहा कि भारत में गोपशु पालन एक पारम्परिक आजीविका अर्जन का विकल्प रहा है और इसका कृषि अर्थ व्यवस्था से गहरा संबंध है |

बिहार में शुरू होंगे 1250 मैत्री केन्द्र

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि बिहार में देश के कुल पशुधन का 6.67% हिस्सा है | बिहार में वर्ष 2015-16  में कुल दूध उत्पादन 8.29 मिलियन मीट्रिक टन था जो पूरे देश का 5.33% है | अतः बिहार में दूध उत्पादन एवं दूध उत्पादकता बढ़ाने की आवश्यकता है | बिहार को ‘राष्ट्रीय गोकुल मिशन' के तहत 67 करोड़ रुपये की राशि की स्वीकृति दी गयी है। योजना के कार्यान्वायन के लिए अब तक 22.5  करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी है | इस योजना के कार्यान्वयन से प्रदेश में दुग्ध उत्पादन एवं उत्पादकता मे वृद्धि होगी। इस के तहत कृत्रिम गर्भाधान को किसान के घर द्वार तक  पहुंचाने के लिए 1250  मैत्री (MAITRI) केन्द्रों को भी स्थापित किया जा रहा है | इससे देशी नस्लों के संरक्षण को नयी दिशा मिलेगी |

बक्सर में स्थापित होगा गोकुल ग्राम

राष्ट्रीय गोकुल मिशन के ही अंतर्गत गोकुल ग्राम स्थापित करना अन्य घटकों के साथ शामिल है। एक गोकुल ग्राम बिहार के बक्सर जिले में स्थापित किया जाएगा | गोकुल ग्राम, 500 उच्च आनुवांशिक गुणों वाले पशुओं के लिए होगा इनमें से 300 प्रजनन योग्य पशु होंगे। इस गोकुल ग्राम पर बछोर के साथ साथ लाल सिंधी, साहिवाल एवं गिर नस्लों के पशुओं को भी रखा जाएगा |