छत्तीसगढ़ : हाथीयों के उत्पात से पिछले पांच वर्षों में 199 लोगों की मौत

पशु संदेश, भोपाल | 22 दिसम्बर 2017

छत्तीसगढ़ में हाथीयों के उत्पात से पिछले पांच वर्षों में 199 लोगों की मौत हुई है तथा सात हजार घरों को नुकसान पहुँचा है | यह जानकारी राज्य के वन मंत्री महेश गागड़ा ने विधानसभा में कांग्रेस विधायक अरूण वोरा के सवाल के जवाब में दी | अपने जबाब में गागड़ा ने यह भी बताया कि इस अवधि में हाथियों के कारण 32952.89  हेक्टेयर फसल को नुकसान पहुंचा है तथा राज्य शासन द्वारा पीड़ितों को 39,49,85,650 रूपए का मुआवजा दिया गया है |

वन मंत्री गागड़ा ने बताया कि राज्य के कुल 17  जिले हाथियों के उत्पात से प्रभावित हैं | राज्य में हाथियों के उत्पात से प्रभावित गांवों में मानव-हाथी संघर्ष को रोकने के लिए प्रभावित गांवों में नुक्कड़ नाटक, प्रचार आदि के माध्यम से जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है | इसके साथ ही प्रभावित गांवों में संयुक्त वन प्रबंधन समिति और हाथी मित्र दलों को भी प्रशिक्षित किया जा रहा है | उन्होंने बताया कि हाथी प्रभावित गांवों में आकाशवाणी केंद्रों के माध्यम से हाथी के विचरण की जानकारी प्रतिदिन प्रसारित कर आम जनता तक पहुँचाई जा रही है |

वन मंत्री ने सदन को जानकारी दी कि छत्तीसगढ़ शासन की ओर से हिंसक वन्यप्राणियों द्वारा जनहानि होने पर चार लाख रूपए, स्थायी रूप से अपंग होने पर दो लाख रूपए तथा घायल होने पर 59 हजार रूपए की अधिकतम सीमा तक सहायता राशि दी जाती है | इसी प्रकार पशु हानि होने पर 30  हजार रूपए की अधिकतम सहायता राशि दी जाती है |